Home पड़ताल मुस्लिम लड़की गीता पढ़े तो ठीक, लेकिन एक हिन्दू लड़की सिर्फ ”आई...

मुस्लिम लड़की गीता पढ़े तो ठीक, लेकिन एक हिन्दू लड़की सिर्फ ”आई लव मुस्लिम्स’ लिख दे तो उसे जान देनी पड़ती है!

SHARE

विक्रम सिंह चौहान

गीता पढ़ने वाली एक मुस्लिम लड़की की पिछले दिनों बहुत चर्चा हुई हिन्दू न्यूज़ चैनलों सॉरी हिंदी न्यूज़ चैनलों ने इस पर विशेष स्टोरी की। लड़की का नाम शायद आलिया खान है। न्यूज़ चैनलों ने बताया कि कैसे इस लड़की ने मौलानाओं की बोलती बंद कर दी। एक बारगी मुझे लगा कि दूसरे धर्म के बारे में अच्छा बोलने वाली इस लड़की का सम्मान होना चाहिए। फिर फायरब्रांड पत्रकार अंजना ओम कश्यप सहित अन्य लोगों को इस पर जरूरत से ज्यादा प्रचार से स्पष्ट हो गया कि यहाँ भी इस लड़की के बहाने मुस्लिम ही निशाने पर है।

आज एक खबर आ रही है बेंगलुरु में 20 साल की एक हिन्दू युवती धन्याश्री ने आत्महत्या कर ली. बीकॉम की स्टूडेंट धन्याश्री के सुसाइड की वजह एक व्हाट्सऐप मैसेज था जिसमें उन्होंने लिखा था ‘आई लव मुस्लिम्स’. इस मैसेज के वायरल होने के बाद उसने अपनी जान ले ली। शुक्रवार को वह अपने दोस्त संतोष के साथ चैट कर रही थी। बातचीत के दौरान ही दोनों के बीच जाति और धर्म पर बहस होने लगी।

संतोष के एक सवाल के जवाब में उसने लिखा, ‘मैं मुस्लिमों से प्यार करती हूं’.इस पर संतोष ने मुस्लिमों से कोई भी रिश्ता रखने को लेकर उसे चेतावनी दी। इतना ही नहीं उसने उस बातचीत का स्क्रीनशॉट बंजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों के साथ भी शेयर किया। ये स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। बीजेपी यूथ विंग के अनिलराज ने धन्याश्री के घर जाकर उसे और उसकी मां को धमकाया।

अगले ही दिन धन्याश्री ने सुसाइड कर लिया। धन्याश्री के शव के पास से पुलिस को एक नोट भी मिला। इस नोट में उसने लिखा था कि इस घटना ने उसकी जिंदगी और पढ़ाई-लिखाई बर्बाद कर दी। एक हिन्दू लड़की को सिर्फ ‘मैं मुस्लिमों से प्यार करती हूँ ‘ लिखने पर जान देनी पड़ी। और जान लेने वाला भी हिन्दू ही है और हम बात यहाँ मुस्लिमों के अत्याचार की करते हैं।

मुस्लिम लड़की गीता पढ़े ,भागवत पढ़े ,जय श्री राम बोले तो ठीक है लेकिन एक हिन्दू लड़की सिर्फ ”आई लव मुस्लिम्स’ लिख दे तो उन्हें जान देनी पड़ती है!

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं)