Home मुख्य खबरें सीरिया त्रासदीः तुर्की कर रही है सीरिया में आतंकियों का सफाया-क़बज़ाया हज़ारों...

सीरिया त्रासदीः तुर्की कर रही है सीरिया में आतंकियों का सफाया-क़बज़ाया हज़ारों किलोमीटर का क्षेत्र

SHARE

अंकारा तुर्की ने कहा है कि उसने सीरिया के आधे से ज्यादा क्षेत्रों को अपने कब्जे में ले लिया है और वह जल्द ही आफरीन क्षेत्र से भी आतंकवादियों का सफाया कर देगा। सरकारी प्रवक्ता बेकिर बॉजदेग ने पत्रकारों से सोमवार को कहा,” आफरीन के 1102 किलोमीटर क्षेत्र को हमने आतंकवादियों के कब्जे से मुक्त करा दिया है और अब हम जल्द ही शहर को भी अपने नियंत्रण में ले लेंगे।” तुर्की ने जनवरी माह के दौरान आफरीन क्षेत्र में अमेरिका द्वारा समर्थित कुर्द वाईपीजी विद्रोहियों के खिलाफ एक आक्रामक अभियान शुरू किया था।

तुर्की की तरफ से स्वतंत्र सीरियाई सेना के साथ मिलकर सीरिया में आतंकवादियों के खिलाफ चलाये गए सैन्य अभियान शाख़ जेतुन में 3149 आतंकवादियों को मार गिराया है,तुर्की सेना उन आतंकवादियों को ज़िंदा गिरफ्तार मुर्दा किया है।

तुर्की सेना ने ऑपरेशन में आतंकवादियों के खिलाफ सैन्य अभियान चलाया हुआ है जिसके चलते अमेरिका तुर्की का विरोध कर रहा है,आफ़रीन क्षेत्र में आतँकी तुर्की सीमा पर हमला बोलकर अशाँति फैलाने का काम करते हैं,जिस से तुर्की सेना के जवान भी मारे गए हैं।

तुर्की मिल्ट्री की रिपोर्ट अनुसार आफ़रीन ऑपरेशन में तुर्की ने 50 दिनों में 3055 आतंकवादियों को हलाक किया है या ज़िंदा गिरफ्तार किया है,पिछले 24 घण्टों में तुर्की ने अपने ऑपरेशन में तेज़ी लाकर 115 आतंकवादियों को गिरफ्तार या हलाक किया है।

तुर्की की तरफ से सीरिया के आफ़रीन में चलाया गया शाख़ जेतून में PKK/PYD/YPG/KCK/ISIS के आतंकवादियों के ख़िलाफ़ 20 जनवरी 2018 से शुरू हुआ था। तुर्की सेना के प्रमुख का कहना है कि तुर्की ऑपरेशन का मक़सद तुर्की सीमाओं की सुरक्षा और मज़बूती प्रदान करना है,और सीरिया में नागरिकों को आतंकवादियों के अत्यचार और ज़ुल्म से बचाना है।

तुर्की का आफ़रीन में चलने वाला शाख़ जेतुन ऑपरेशन संयुक्त राष्ट्र संघ के संविधान और क़ानून के अंतर्गत चलाया जारहा है,संयुक्त राष्ट्र के चार्टर के अनुसार किसी भी देश को अपनी सुरक्षा के लिये डिफेंस करने का अधिकार रहता है। गौरतलब है कि सीरिया बीते सात सालों से गृह युद्ध से जूझ रहा है। जिसके कारण पचास लाख सीरियाई नागरिक दूसरे देशो में जाकर शरणार्थी हो गये हैं।