Breaking News
Home / विशेष रिपोर्ट / विशेषः जानिये कौन हैं जस्टिस चेलमेश्वर, जिन्होंने चीफ़ जस्टिस पर उठाए हैं गंभीर सवाल ?

विशेषः जानिये कौन हैं जस्टिस चेलमेश्वर, जिन्होंने चीफ़ जस्टिस पर उठाए हैं गंभीर सवाल ?

नई दिल्ली – भारत के इतिहास में पहली बार बीते शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने मीडिया से बात की है। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद सुप्रीम कोर्ट के सबसे सीनियर जस्टिस जे चेलमेश्वर ने कई सवाल न्यायपालिका और चीफ जस्टिस के बर्ताव पर खड़े किए हैं। जस्टिस चेलमेश्वर के साथ तीन और न्यायधीश इस प्रेस वार्ता में थे।

हालांकि प्रेस वार्ता के दौरान ज्यादा जस्टिस चेलमेश्वर ने ही बोला। जस्टिस चेलमेश्वर के घर पर ही ये प्रेस वार्ता आयोजित हुई है। ये कोई पहला मौका नहीं है जब जस्टिस चेलमेश्वर चर्चा में है। वे पहले भी कई मामलों पर कड़ा रुख अपनाते रहे हैं। आइए जानते हैं कौन हैं जस्टिस चेलमेश्वर।

केरल और गुवाहाटी हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रह चुके हैं जस्टिस चेलमेश्वर

64 वर्षीय जस्टिस चेलमेश्वर सुप्रीम कोर्ट के दूसरे वरिष्ठ जज हैं। जब जस्टिस दीपक मिश्रा चीफ जस्टिस बने उस समय उनका नाम भी इसके लिए आया था। आन्ध्र प्रदेश से आने वाले जस्टिस चेलमेश्वर का बतौर जज काफी लंबा करियर रहा है। वे सुप्रीम कोर्ट से पहले गुवाहाटी और केरल हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रह चुके हैं। जज के तौर पर उन्होंने अपना करियर आन्ध्र प्रदेश हाईकोर्ट से शुरू किया, जहां वो 1997 में एडिशनल जज बने। 2007 में वे गुवाहाटी के चीफ जस्टिस बने और 2010 में केरल हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने। अक्टूबर 2011 में वो सुप्रीम कोर्ट के जज बने।

आधार कार्ड पर दिया था कड़ा फैसला

सुप्रिम कोर्ट के तीन न्यायाधीशों की पीठ, जिसमें जस्टिस चेलेमेश्वर भी शामिल थे, ने बीते साल एक अहम फैसला दिया था। इसमें कहा गया था कि आधार कार्ड के ना होने की स्थिति में किसी भारतीय नागरिक को बुनियादी सेवाओं और सरकारी सब्सिडी से वंचित नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा कोलेजियम और कई दूसरे मामलों पर भी वो जस्टिस चेलमेश्वर कड़ाई से बात रखते रहे हैं। चीफ जस्टिस के साथ भी कई मुद्दों पर उनके मतभेद की खबरें पहले आ चुकी हैं।

क्या बोले हैं न्यायाधीश चेलमेश्वर

जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने भ्रष्टाचार की शिकायत नहीं सुनी, हम नहीं चाहते हैं कि 20 साल बाद हम पर कोई आरोप लगे। न्यायाधीश चेलमेश्वर ने कहा कि जजों के बारे में चीफ जस्टिस ऑल इंडिया को शिकायत की थी लेकिन चीफ जस्टिस ने हमारी बात नहीं सुनी। न्यायाधीश चेलमेश्वर ने कहा कि हम देश का कर्ज अदा कर रहे हैं। मजबूर हो कर मीडिया के सामने आना पड़ा है, अब चीफ जस्टिस पर देश फैसला करे।

Check Also

हिन्दी में पढ़ेंः चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया को लिखी चार जजों की वो चिट्ठी जिससे खड़ा हुआ बवाल

Share this on WhatsAppप्रिय मुख्य न्यायाधीश जी, बड़ी नाराज़गी और दुख के साथ हमने सोचा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *