Home देश शिवसेना का गौरक्षकों पर हमला, पूछा ‘गोवा में बिक रहे गौमांस पर...

शिवसेना का गौरक्षकों पर हमला, पूछा ‘गोवा में बिक रहे गौमांस पर आपत्ती क्यों नहीं क्या वहां गाय माता नहीं ?’

SHARE

मुंबई अपने बयानों से अक्सर चर्चा में रहने वाले भाजपा के घटक दल शिवसेना ने एक बयान जारी कर गौरक्षकों पर सवाल उठाया है। शिवसेना ने गौरक्षा और राष्ट्रगान के मुद्दें पर अपने सहयोगी दल भाजपा पर निशाना साधते हुए  राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ (आरएसएस) से दोनों ही मुद्दों पर अपना रूख स्पष्ट करने की मांग की है।।

शिवसेना ने गौरक्षा के मुद्दे पर कहा कि अभी तक यह कहा जाता है कि जो लोग गाय की रक्षा करते हैं वे राष्ट्रवादी हैं और जो बीफ खाते हैं, वे देशद्रोही हैं, लेकिन भाजपा शासित गोआ के मुख्यमंत्री ने कल कहा कि गोआ में बीफ पर कोई प्रतिबंध नहीं है।

गौरतलब है कि दो दिन पहले गोमांस के क़ानूनी रूप से निर्यात में बाधा डालने वाले गौरक्षकों को चेतावनी देते हुए गोआ के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा था कि मैं यह देखुंगा कि अगर बीफ के कानूनी निर्यात में कोई बाधा पैदा करता है तो मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि उसे सजा दी जाये। शिवसेना ने इसी को लेकर भाजपा पर निशाना साधा है।

शिवसेना ने राष्ट्रगान के मुद्दे पर कहा, उच्चतम न्यायलत का फैसला उन लोगों के लिए झटका है जिन्होंने मोदी सरकार में यह रुख अपनाया था कि वंदे मातरम् गाने वाले लोग राष्ट्रवादी हैं और जो इसे नहीं गाते हैं वे देशद्रोही हैं, राष्ट्रगान पर सरकार के रूख को कायरतापूर्ण बताते हुए इसमें कहा गया है कि राष्ट्रवाद की परिभाषा हर दिन बदल रही है।

गौरतलब है कि गाय के नाम पर देश में बीते चार साल में तीन दर्जन से अधिक लोगों की हत्याऐं हुई हैं। गाय के नाम पर इंसानों की हत्या करने वाले गौआतंकी खुद को गाय का रक्षक बताते हैं। गाय क नाम पर सबसे ज्यादा हत्या भाजपा शासित राज्यों झारखंड और राजस्थान में हुई हैं। जबकि भाजपा शासित राज्य गोआ में बीफ पर कोई प्रतिबंध नही है।