Home विदेश वाशिंगटनः अमरीका की एक और हार यूरोपीय संघ जेसीपीओए के समर्थन में...

वाशिंगटनः अमरीका की एक और हार यूरोपीय संघ जेसीपीओए के समर्थन में सामने आया।

SHARE

नई दिल्ली – बीते गुरुवार को ब्रसल्ज़ में ईरानी विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ के साथ मीटिंग के बाद योरोपीय संघ की विदेश नीति प्रभारी फ़ेड्रीका मोग्रीनी और जर्मनी, फ़्रांस तथा ब्रिटेन के सीनियर कूटनयिकों ने 2015 में हुए परमाणु समझौते जेसीपीओए के बारे में बारी बारी से बयान दिया।

फ़ेड्रिका मोग्रीनी ने कहा, “आज की मीटिंग, ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते जेसीपीओए के सभी पक्षों द्वारा पालन को सुनिश्चित करने के लिए जारी काम पर केन्द्रित थी।” उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी आईएईए की तरफ से जारी की गई उन 9 रिपोर्टों का हवाला देते हुए कि जिसमें ईरान की तरफ से जेसीपीओए का पालन होने की पुष्टि की गयी है।

उन्होंने कहा कि यह समझौता काम कर रहा है, इस समझौते से ईरान के परमाणु कार्यक्रम को नियंत्रण में रखना और उसपर कड़ी निगरानी रखने का मुख्य लक्ष्य हासिल हो रहा है। फ़ेड्रीका मोग्रीनी ने कहा कि ज्यादा परमाणु ख़तरे के समय योरोपीय संघ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर परमाणु अप्रसार तंत्र के मुख्य तत्व के रूप में जेसीपीओए को बाक़ी रखने पर प्रतिबद्ध है।

उन्होंने कहा कि योरोपीय संघ इस समझौते को पूरी तरह लागू करने का समर्थन करने पर प्रतिबद्ध है जिसमें इस बात को सुनिश्चित करना भी शामिल है कि परमाणू संबंधी पाबंदियों के हटने का ईरानी जनता सहित ईरान के साथ आर्थिक और व्यापारिक संबंध पर भी सार्थक असर पड़ा है।

योरोपीय संघ की विदेश नीति प्रभारी ने ईरान के पारंपरिक मीसाईन कार्यक्रम और पश्चिम एशिया में बढ़ते बनाव पर भी चिंता जतायी है, लेकिन साथ ही जोर दिया कि ये मुद्दे परमाणु समझौते जेसीपीओए के अधिकार क्षेत्र में नहीं आते। ईरान और योरोपीय संघ की यह बैठक ऐसे वक्त में  हुई जब अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सामने से, ईरान को पाबंदियों से राहत देने की अवधि को बढ़ाने की अंतिम तारीख़, अब तक कई बार गुज़र चुकी है।