Home देश नज़रियाः वसीम रिज़्वी को बताना चाहिये कि नाथूराम गोडसे ने कौनसे मदरसे...

नज़रियाः वसीम रिज़्वी को बताना चाहिये कि नाथूराम गोडसे ने कौनसे मदरसे में शिक्षा ली थी ?

SHARE

नज़ीर मलिक

किसी धार्मिक या आधुनिक शिक्षण संस्थान में आतंकवाद की ट्रेनिंग नहीं दी जाती। मगर शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज्वी साहब मदरसों को आतंकी उत्पादन का केन्द्र बता रहे हैं। मेरे कुछ सवाल है वसीम रिजवी साहब से, गौर कर लें तो शायद समस्या का कुछ समाधान निकल आये।

वसीम रिज्वी साहब आपकी राष्ट्रवादी पार्टी की विचार धारा वाला आजाद भारत का पहला आंतकवादी नाथूराम गोंडसे तो किसी हिंदू शिक्ष्ण संस्थान में नहीं पढ़ा था। उसने सामान्य स्कूल में शिक्षा ली थी,19वीं सदी के अंत और बीसवीं सदी की शुरुआत के सबसे बड़े आतंकी लिट्टे के प्रभाकरएन करन ने सामान्य स्कूल में एजुकेशन ली थी, तो क्या सामान्य स्कूलों में आतंकवादी पैदा होते हैं? इसके उलट आईएसआई एजेंट धु्व सक्सेना से लगायत प्रज्ञा ठाकुर तक ने सरस्वती शिश मदिर से शिक्षा ली, तो क्या सारे शिशु मंदिर आतंकवादी पैदा रते हैं?

वसीम रिज्वी साहब आप लखनऊ की गलियों और नखास क्षेत्र में कल तक क्या करते थे सभी जानते हैं। आप किसके पाजामे में इजारबंद डाल कर इस मुकाम तक पहूंचे हैं, इसे लखनऊ के लोग खास कर शिया समाज के लोग बखूबी जानते हैं। आप किसको गाली दे रहे हैं जनाब? अपने भारतीय धर्मगुरू और मदरसे की उपज मौलाना कलबे सादिक या क्लबे जव्वाद को या फिर विश्वविख्यात धर्म गुरु स्व, खुमैनी को?

जनाब आतंकी कहीं पैदा हो सकता है। सामान्य स्कलों में या मदरसों, शिशु मंदिरों या मिशन स्कूलों में भी।इसलिए मदरसों पर राजनीति कर भाजपा का बड़ नेता बनने का ख्वाब् छोड़ दीजिए। शहनवाज हुसैन और मुख्तार रिज्वी बनने के लिए कुछ अध्ययन कीजिए जनाब, हांलांकि मै उनकी राजनीतिक विचारधारा का विरोधी हूं, मगर वे आपकी तरह टुच्ची भाषा का प्रयोग नहीं करते।

(लेखक कपिलवस्त वेबपोर्टल के संपादक हैं)