Home देश मुख्तार अंसारी अस्पताल से डिस्चार्ज, बगैर डॉक्टर के बांदा जेल ले जाने...

मुख्तार अंसारी अस्पताल से डिस्चार्ज, बगैर डॉक्टर के बांदा जेल ले जाने पर परिजनों ने जताई नारजगी

SHARE

लखनऊ – यूपी के बांदा जिला जेल में बंद बसपा विधायक मुख़्तार अंसारी की जेल में तबीयत बिगड़ जाने के कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिसके बाद उन्हें अब अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। और वापस बांदा जेल भेज दिया गया है। उन्हें इतनी जल्दी अस्पताल से डिस्चार्ज करने को लेकर उनके समर्थकों और परिजनों ने नाराजगी जताई है।

मुख्तार अंसारी के बड़े बेटे अब्बास अंसारी ने कहा कि उनके पिता को हार्ट अटैक आया था उनकी एनजियोग्राफी कराई गई थी, लेकिन हार्ट अटैक के पीड़ित मरीज को इतनी जल्दी अस्पताल से छुट्टी देना सही नही है। उन्होंने कहा कि सरकार दौगली नीति अपना रही है। अब्बास ने नेशनल स्पीक से बताया कि केंद्र और राज्य सरकार के कुछ मंत्री और कुछ विधायक उनके पिता की जान लेना चाहते हैं। इसीलिये सरकार एक हार्ट अटैक के मरीज के साथ ऐसा बर्ताव कर रही है।

उन्होंने कहा कि मैंने डॉक्टरों और अधिकारियो से गुजरिश की कमसे कम अपने पापा के साथ जेल तक मुझे जाने दिया जाये लेकिन उन्होंने सुरक्षा कारणों का हवाला देकर मेरी बात मानने से इनकार कर दिया। अब्बास ने कहा कि बगैर किसी डॉक्टर की मौजूदगी के उनके पिता को जेल ले जाया गया है यह कैसी सुरक्षा है ?

महज 48 घंटे के अंदर ही मुख्तार अंसारी को अस्पताल से डिस्चार्ज करने पर अस्पताल प्रशासन और जेल अधिकारियों का कहना है कि सरकार का आदेश है कि मुख्तार अंसारी की जेल में ही देखरेख की जायेगी और वहीं उनका इलाज कराया जायेगा। मुख्तार अंसारी की पत्नि अफसा अंसारी को भी अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

मुख्तार अंसारी के परिजन चाहते थे कि उन्हें कुछ दिन और अस्पताल में ही रखा जाये लेकिन प्रशासन ने उनकी एक न सुनी, अब्बास अंसारी ने कहा कि एक हार्ट अटैक को मरीज को बगैर डॉक्टर के इतनी जल्दी अस्पताल से ले जाना ठीक नही है। उन्होंने कहा कि सरकार की मंशा ठीक नही है।