Breaking News
Home / पड़ताल / नज़रियाः राष्ट्रवाद के बाजीगरों से सावधान, अगर देश का नौजवान आज भटक गया तो देश भटक जाएगा

नज़रियाः राष्ट्रवाद के बाजीगरों से सावधान, अगर देश का नौजवान आज भटक गया तो देश भटक जाएगा

आशू मलिक

सत्ता हासिल करने के लिए धर्म और राष्ट्रवाद को हथियार बनाकर देश का ताना-बाना मत तोड़ो धर्म जाति क्षेत्र के नाम पर सियासत करके देश की एकता और अखंडता को मत तोड़िए हिंदू मुस्लिम सिख इसाई हम सब भारत माता के ही सपूत हैं दोस्तों अगर इनमें से भारत मां के किसी भी बेटे को तकलीफ होगी तो मानो कि आपने भारत माता का दिल दुखाया है क्योंकि मां अपने सब बेटों से बराबर मोहब्बत करती है इन राष्ट्रवाद के बाजीगरों से सावधान रहने की जरूरत है।

क्योंकि भारत एक युवा राष्ट्र है और अगर आपके देश का युवा हिंदू मुस्लिम सिख इसाई के नाम पर धर्म के नाम पर क्षेत्र के नाम पर बट गया तो आप स्वयं सोचिए हमारे देश का भविष्य क्या होगा आज नौजवानों के बीच धर्म के नाम पर जो अविश्वास पैदा किया जा रहा है उसे कोई दल व्यक्ति विशेष राजनीतिक फायदा तो उठा सकता है सत्ता हासिल तो कर सकता है लेकिन देश की एकता और अखंडता को नहीं बचा सकता बात हिंदू और मुसलमान की नहीं देश के नौजवानों के लिए रोजगार की होनी चाहिए क्योंकि यह नौजवान ही आने वाले कल के विकास की आधारशिला है।

अगर देश का नौजवान आज भटक गया तो देश भटक जाएगा सोचो कि हम आने वाली पीढ़ी को अपने बच्चों को कैसा भारत देकर जाने वाले हैं क्या ऐसा भारत जहां धर्म के नाम पर लोगों की हत्या की जाती हो घर जलाए जाते हो सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया जाता हो धर्म के नाम पर उत्तेजक बातें की जाती हो हर वर्ग अपने आप को असुरक्षित महसूस करता हो क्या सरदार भगत सिंह और गांधीजी ने ऐसे ही आजाद भारत की कल्पना की थी।

यकीन मानिए अगर यह भटका हुआ युवा अपने नैतिक मूल्यों को समझें देश के प्रति अपनी जिम्मेदारी और कर्तव्य को समझें एक नए भारत की तस्वीर उभरकर सामने आएगी जहां आपसी भाईचारा होगा मेल मिलाप और मोहब्बत होगी फिर अपने हिंदू भाई भी शायद गर्व से कह सके कि शायद यही राम राज्य है। धर्म जाति क्षेत्र के नाम पर लड़ना बंद करना होगा अगर लड़ना है तो अन्याय के खिलाफ लड़ीए अगर लड़ना है तो गरीबी के खिलाफ लड़िए अन्याय किसी के भी साथ हो उसका धर्म जाति मत देखिए देश के एक जिम्मेदार नागरिक बनिए संविधान का सम्मान करिए देश के प्रत्येक नागरिक के लिए संविधान एक धर्म है जो हमें अपने अपने धर्मों को मानने की आजादी देता है।

मैं अपने तमाम उन हिंदू नौजवान भाइयों से भी अपील करता हूं बड़ी विनम्रता से ऐसी उत्तेजक बातें ना बोले जिससे समाज का ताना-बाना टूटता हो भारतवर्ष एक ऐसा देश है जिसने पूरी दुनिया को शांति की राह दिखाई यही हमारी और भारतवर्ष की पहचान है ऐसा कोई भी बयान ना दें जिससे हिंदू और मुस्लिम नौजवानों के बीच अविश्वास पैदा हो यह तुम्हारे लिए सबसे बड़ी देशभक्ति होगी और जाते जाते एक बात और हमेशा वही देश तरक्की करता है विकास करता है। जहां शांति होती है हम न होता है नागरिकों के दिलों में सुरक्षा की भावना होती है।

क्योंकि देश के लिए 125 करोड़ लोग कमाते हैं तब देश का विकास होता है, कोई भी नेता या अधिकारी अपने घर से पैसा लाकर देश का विकास नहीं करता आजादी के बाद निरंतर देश विकास कर रहा है क्योंकि देश की जनता मेहनत करती है इसलिए देश की जनता को सुरक्षा चाहिए अमन और शांति चाहिए आपसी भाईचारा चाहिए रोजगार चाहिए।

देश के लिए कमाने वाली जनता के साथ अगर अपराधियों जैसा सलूक हो तो देश विकास कैसे करेगा बड़ी गंभीरता से सोचने की जरूरत है इसलिए अब कुछ तथाकथित लोगों को राष्ट्रवाद के नाम पर अपनी बाजीगरी बंद करनी चाहिए और देश की जनता को इन राष्ट्रवादी बाजीगरों से सावधान रहना चाहिए जो धर्म जात क्षेत्र के नाम पर देश में अविश्वास पैदा कर रहे हैं और देश की एकता और अखंडता को आघात पहुंचा रहे हैं।

(लेखक उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य (विधायक) हैं)

Check Also

नज़रियाः तोगड़िया आज आरएसएस के बड़े तबके की सामान्य मनोदशा के प्रतीक है।

Share this on WhatsAppअरूण माहेश्वरी आरएसएस के सबसे चहेते और ज़हरीले नेता प्रवीण तोगड़िया दो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *