Breaking News
Home / देश / इजरायली PM के भारत दौरे का विरोध शुरू, विभिन्न मुस्लिम संगठनों ने किया इजरायल के खिलाफ प्रदर्शन

इजरायली PM के भारत दौरे का विरोध शुरू, विभिन्न मुस्लिम संगठनों ने किया इजरायल के खिलाफ प्रदर्शन

नागपुर- मुसलमानों के तीसरे सबसे पवित्र शहर यरुशलम पर इजराइल के कब्ज़े के विरोध में मुस्लिम समाज द्वारा मोमिनपुरा फुटबॉल ग्राऊंड से एक शांति मोर्चा निकाला गया। इजराइल द्वारा फिलिस्तीनी नागरिको पर अत्याचार के विरोध में शहर के विरोध के विभिन्न संगटनो ने एकजुट होकर मोर्चे में उपस्थिति दर्ज कराई। और उपजिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। साथ ही तीन तलाक के मामले पर कानुन बनाये जाने का भी विरोध कर ज्ञापन सौंपा।

गौरतलब है कि अमेरिका ने बीते साल दिसंबर में संयुक्त राष्ट्र का उलंग्घन करते हुए इजराइल में अपना दूतावास तेल अवीव से येरुशलम में स्थानांतरित करने का ऐलान किया था, जिसके खिलाफ भारत समेत 128 देशो ने विरोध किया था। और पूरे विश्व में इसके खिलाफ मुस्लिम समाज द्वारा आंदोलन हो रहा है।

इजरायली प्रधानमंत्री के भारत दौरे का विरोध करते हुए मोर्चे में मौजूद उलमाए अहले सुन्नत ने कहा कि यरूशलम मुस्लिमो का तीसरा सबसे पवित्र शहर है इस पर अमेरिका और इजराइल की तानाशाही नही चलेगी। और साथ ही तीन तलाक के मुद्दे पर कहा कि भारत एक सेक्युलर देश है जहाँ सभी धर्म के लोगो को अपने धर्म के कानून के मुताबिक चलने का अधिकार संविधान देता है, जो हमसे कोई छीन नही सकता।

इस मौके पर यूनियन ऑफ़ मुस्लिम स्टूडेंट्स, मुनज़्ज़मा ए फ्लाहिया, असरा फाउंडेशन, ग्लोबल इस्लामिक ऑर्गनाइज़ेशन, नूरी महफ़िल, मोमिनपुरा रौशन कमिटी समेत शहर की विभिन्न संघठनो ने हिस्सा लिया। जिसमे मौलाना कमर अली अस्वी, मौलाना नईमुद्दीन नूरी, मुफ़्ती मुज्तबा शरीफ, मुफ़्ती सरफ़राज़ अहमद बरकाती, मौलाना फैज़ अहमद अशहरी, मौलाना मेहबूब खान, मौलाना मुस्तफा राजा चांगल, मौलाना अब्दुल कलाम (हिंगना), मौलाना अब्दुल खलील, मौलाना शफी रज़ा इत्यादि ने मोर्चे की कमान संभाली।

Check Also

राजस्थानः एक और बंगाली मजदूर साकिर अली की मौत, जिस्म पर मिले तेजाब से जलने के निशान

Share this on WhatsAppनई दिल्ली –  राजस्थान में पश्चिम बंगाल के एक और मजदूर की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *