Home खेल क्रिकेटर इरफ़ान पठान ने किया इशारा ‘उनका करियर खत्म करने के लिए...

क्रिकेटर इरफ़ान पठान ने किया इशारा ‘उनका करियर खत्म करने के लिए एक खिलाड़ी है ज़िम्मेदार’

SHARE

नई दिल्ली कुछ बरस पहले तक भारतीय टीम का अहम हिस्सा रहे इरफ़ान पठान का करियर जिस तेज़ी से परवान चढ़ा उसी तेजी से उनका करियर नीचे आ गया। अपनी गेंदबाजी और बल्लेबाजी से जोहर दिखाने वाले भारतीय क्रिकेट टीम के इस हरफनमौला खिलाड़ी से विरोधी टीम के पसीने छूट जाते थे। लेकिन अब वही पठान भारतीय क्रिकेट में अपनी वापसी के इंतजार में हैं।

2003 में पेस बैट्री के रूप में इरफ़ान पठान ने भारतीय क्रिकेट टीम में प्रवेश किया था वे अपनी गेंदबाजी और बल्लेबाजी की बदौलत बहुत जल्द भारतीय क्रिकेट टीम का अभिन्न अंग बन गये थे लेकिन अब उनका अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर लगभग खत्म हो चूका है। इरफ़ान पठान ने भारती क्रेकिटे टीम के मौजूदा स्टार खिलाड़ी हार्दिक पंड्या की तारीफ़ करते हुए अपने करियर के खत्म होने का दर्द ब्यान किया है.

कभी भारतीय टीम का हिस्सा रहे इस हफनमौला खिलाड़ी ने ने कहा कि एक काबिल क्रिकेटर अपनी पूरी काबिलियत तभी दिखा सकता है जब उसे टीम मैनेजमेंट का पूरा साथ मिले. उन्होंने भारतीय कप्तान विराट कोहली को भी बधाई देते हुऐ कहा कि उन्होंने हार्दिक पंड्या के हरफनमौला काबिलियत पर यकीन दिखाया.

गौरतलब है कि हार्दिक पंड्या ने पिछले साल से ही भारत के लिये खेलना शुरू किया है लेकिन उनके शानदार प्रदर्शन ने क्रिकेट पंडितों को वही उम्मीदें हैं जो इरफ़ान पठान को लेकर कभी भारतीय क्रिकेट प्रेमियों को रहती थीं। इरफान पठान ने आगे कहा कि खिलाड़ियों का समर्थन करते हुए देखना अच्छा लगा लेकिन ऐसा भी होता है कि कई बार खिलाडियों को उतना समर्थन नही मिलता है जितना मिलना चाहिए था।

जब इरफ़ान पठान ने भारतीय क्रिकट टीम में पदार्पण किया था तब भारतीय क्रिकेट टीम की कमान सौरव गांगुली के पास थी। उनके बाद हुल द्रविड़ ने कमान संभाली थी इन दोनों के समय में इरफ़ान पठान का करियर काफी तेज़ी से ऊपर गया लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम की कमान धोनी के पास पहुचने के बाद इरफ़ान पठान का करियर लगभग खत्म ही हो गया.

महज बीस साल की उम्र में ही भारतीय क्रिकेट टीम में जगह पाने वाले इरफ़ान ने हार्दिक पंड्या पर टिप्पड़ी करते हुए अपना दर्द बयां किया। बता दें कि धोनी पर इरफ़ान पठान को समर्थन ना देने के आरोप पहले भी लगते रहे है वहीं रविन्द्र जाडेजा को लगातार असफल रहने के बाद भी महेन्द्र सिंह धोनी लगातार मौका देते रहे हैं।