Home खेल ज़मा ने बुमराह की नोबॉल पर तोड़ी चुप्पी, कोहली की ऐसी तारीफ...

ज़मा ने बुमराह की नोबॉल पर तोड़ी चुप्पी, कोहली की ऐसी तारीफ कि आप भी कहेंगे ‘फख्र’ है

SHARE
Umpire Marais Erasmus (C) signals a wide and overturns the decision for the wicket of Pakistans Fakhar Zaman (not pictured) during the ICC Champions Trophy final cricket match between India and Pakistan at The Oval in London on June 18, 2017. / AFP PHOTO / Ian KINGTON / RESTRICTED TO EDITORIAL USE (Photo credit should read IAN KINGTON/AFP/Getty Images)

चैम्पियंस ट्रॉफी खत्म हुए अब काफी समय हो गया है, लेकिन उसकी चर्चाओं पर अभी तक विराम नहीं लग पाया है। फाइनल मैच में टीम इंडिया को पाकिस्तान के खिलाफ 180 रनों की हार का सामना करना पड़ा था। मैच में जसप्रीत बुमराह की नो बॉल ने खूब सुर्खियां बटोरी। इस एक नो बॉल ने पूरे मैच का नक्शा पलट कर रख दिया था। इस पर जयपुर से लेकर फैसलाबाद की ट्रैफिक पुलिस ने विज्ञापन भी बना डाले, लेकिन फाइनल मैच के बाद से फखर जमां ने इस पर कुछ भी नहीं कहा था। जमां ही बुमराह की गेंद पर बल्ले का बाहरी किनारा लगाकर विकेट के पीछे महेंद्र सिंह धौनी को कैच थमा बैठे थे।

कैच लेते ही पूरी टीम इंडिया जश्न में डूबी ही थी कि अंपायर ने इसे नोबॉल करार दिया। जमां को जीवनदान मिला और यहीं से टीम इंडिया के हाथ से मैच फिसल गया। जमां ने 106 गेंद पर 114 रनों की पारी खेली, जब उन्हें जीवनदान मिला तब वो महज तीन रन पर खेल रहे थे।

मेरा तो दिल ही बैठ गया था

जमां ने ट्रिब्यून को दिए एक इंटरव्यू में खुलासा किया कि उस कैच के बाद उन्हें कैसा लगा था। उन्होंने कहा, ‘जब विकेट के पीछे गेंद लपकी गई तो मेरा दिल बैठ गया था। मैं सन्न रह गया था और पवेलियन की और कदम बढ़ाने लगा था, मुझे लगा कि मेरी उम्मीदें टूट गईं। मैं लगातार यही सोच रहा था कि मैं ऐसे कैसे अपना विकेट गंवा सकता हूं। मुझे बड़ा स्कोर बनाना था ना कि तीन रन पर आउट होकर पवेलियन लौटना था।’

हालांकि कुछ ही देर में अंपायर ने जमां को रोक लिया। इस बारे में  जमां ने बताया, ‘जैसे ही मुझे अंपायर ने रोका मुझे लगा कि मुझे नई उम्मीद मिल गई। ऐसा लगा कि मुझे नई जिंदगी मिल गई है। मैंने खुद से कहा कि ये नोबॉल निकल गई, इसका मतलब आज का दिन मेरा ही है।’

कोहली ने बजाईं मेरे लिये तालियां

जमां ने जब सेंचुरी जड़ी, टीम इंडिया पूरी तरह से बैकफुट पर थी। जमां को लगा था कि उनकी सेंचुरी पर विरोधी टीम का कोई भी खिलाड़ी ताली नहीं बजाएगा। जमां ने बताया, ‘जब मैंने सेंचुरी जड़ी तो मुझे लगा था कि वो लोग इसे नज़रअंदाज़ कर देंगे। लेकिन जब मैंने कोहली को देखा तो वो मेरे लिए ताली बजा रहे थे। हालांकि महेंद्र सिंह धौनी ने कुछ भी रिऐक्शन नहीं दिया। जो मुझे अच्छा नहीं लगा।’