Home देश मिलिए एक बेहद खूबसूरत मस्जिद का निर्माण कराने वाले जनसंघी से, जानिये...

मिलिए एक बेहद खूबसूरत मस्जिद का निर्माण कराने वाले जनसंघी से, जानिये क्यों कराया मस्जिद का निर्माण?

SHARE

नई दिल्ली – सुनकर आश्चर्य जरूरत होता है लेकिन सच्चाई यही है कि अरबों डॉलर के मालिक और खांटी के जनसंघी डॉक्टर बीआर शेट्टी ने एक मस्जिद का निर्माण कराया है। वही जनसंघ जिसकी मुस्लिम दुश्मनी किसी से छिपी नही है, उसका एक वरिष्ठ कार्यकर्ता मस्जिद का निर्माण कराये तो अजीब तो लगेगा है।

डॉक्टर बीआर शेट्टी ने यह मस्जिद अबू धाबी में अपने अस्पताल में बनवाई है,  हालांकि मस्जिद छोटी सी है लेकिन सुन्दर है. डॉक्टर शेट्टी उस कमैटी के भी अध्यक्ष हैं जो अबू धाबी में पहले हिन्दू मंदिर के निर्माण के लिए ज़िम्मेदार है.

जब पीएम मोदी ने 2015 में अमीरात का दौरा किया था. उस वक्त मंदिर के लिए अबू धाबी सरकार ने ज़मीन देने की घोषणा की थी. इस मंदिर पर काम अगले साल फ़रवरी में शुरू करने की योजना है. जिसकी सारी ज़िम्मेदारी डॉक्टर बीआर शेट्टी के कांधों पर है. वैसे दुबई में पहले से ही दो मंदिर हैं और एक गुरुद्वारा भी है.

मस्जिद का निर्माण कराने वाले शेट्टी अमीरात में पांच सबसे धनी भारतीयों में से एक हैं. अमीरात में स्वास्थ्य सेवाओं की सब से बड़ी कंपनी न्यू मेडिकल सेंटर (NMC) के मालिक हैं जिसके यहां दर्जनों अस्पताल और क्लिनिक हैं. वे यूऐइ एक्सचेंज नाम मनी ट्रांसफर कंपनी के भी वो मालिक हैं. इनता ही नहीं उन्होंने 2014 में विदेशी मुद्रा कंपनी “ट्रैवेक्स” को भी खरीद लिया था जिसकी 27 देशों में शाखाएं हैं.

यही वो मस्जिद है जिसका निर्माण मिस्टर शेट्टी द्वारा कराया गया है।

बीआर शेट्टी के मुताबिक उनकी दो माताऐं हैं, उनके मुताबिक अगर वे भारत में ही रहते तो इतनी तरक्की नही कर पाते, यह पूछने पर कि क्या उन्हें भारत से लगाव नहीं है इस पर वे कहते हैं कि मैं हमेशा कहता हूँ मेरी दो माताएं हैं – एक अपनी मातृभूमि (भारत) और एक ये माँ (अमीरात) जिसने मेरी देखभाल की. मैं पूरी तरह से इस देश के लिए प्रतिबद्ध हूँ. साथ ही अपने देश के लिए भी प्रतिबद्ध हूँ.

डॉक्टर शेट्टी को अमीरात से बेहद लगाव है वे अमीरात की तारीफें करते नहीं थकते वे कहते हैं कि मैं बेहद ख़ुशी के साथ कहना चाहता हूँ कि ये देश रहने के लिए सबसे अच्छा देश है. डॉक्टर शेट्टी ने बताया कि मैं यहां सही समय पर आया. अल्लाह मुझे लेकर यहां आया.

नोट – यह स्टोरी बीबीसी हिन्दी से संक्षिप्त रूप में सभार ली गई है आप पूरी रिपोर्ट पढने के लिये यहां क्लिक करें।