Home खेल क्रिकेटर युवराज सिंह ने की दीवाली पर पटाखे न जलाने की अपील,...

क्रिकेटर युवराज सिंह ने की दीवाली पर पटाखे न जलाने की अपील, भड़के यूजर्स बोले ‘….तुझे कैंसर से मर जाना चाहिये था’

SHARE

नई दिल्ली – भारतीय क्रिकेट टीम के धुरंधर बल्लेबाज युवराज सिंह ने लोगों को प्रदूषण से होने वाली परेशानी के बारे में बताते हुए इस दीवाली पर पटाखा न जलाने की अपील की। लेकिन युवराज सिंह अपने इस वीडियो के कारण ट्रोल्स के निशाने पर आ गये। लोगों ने उनके वीडियो पर बहुत ही तल्ख टिप्पणी करते हुए उनसे तरह तरह के सवाल करने शुरु कर दिये।

युवराज सिंह ने वीडियो में देश वासियों से अपीली की थी की इस दीवाली प्लीज पटाखे नहीं जलाना क्योंकि उससे बहुत परेशानी होती है। इसलिये आने वाली पीढ़ी के लिये, बच्चों के लिये, और बुजुर्गों समेत खुद अपनी सेहत का ख्याल रखते हुए पटाखे नहीं जलाना। युवराज सिंह ने पिछले साल दीवाली पर दिल्ली में छाई धुंध का हवाला देते हुए इस वीडियो को पोस्ट किया था। युवराज ने आगे कहा कि मिठाईयां खाइये और एक दूसरे को गले लगाइये लेकिन पटाखे मत जलाइए।

गौरतलब है कि 19 अक्टूबर को देश भर में दीवाली मनाई जानी है, इस त्योहार पर हिन्दू समुदाय के लोग एक दूसरे को मिठाईयां खिलाते हैं और पटाखे फोड़ते हैं। दिवाली के दिन फोड़े जाने वाले पटाखों से होने वाले ध्वनि और वायु प्रदूषण और धुंध मद्देनजर युवराज सिंह ने वीडियो मैसेज अपने फेसबुक वॉल पर पोस्ट किया है।

भड़के यूजर्स बोले ईद पर कहां थे

युवराज के इस वीडियो पोस्ट पर लोगों ने भड़कते हुए उन्हें उल्टा सीधा कहना शुरु कर दिया। सुमित अग्रवाल नाम के एक यूजर ने लिखा कि पटाखे भी कमबख्त सेक्यूलर हो गये नये साल के जश्न में फूटते हैं तो खुशियां बिखेरते हैं और जब दीवाली पर फूटते हैं तो प्रदूषण करते हैं।

देखें वीडियो

वही एक यूजर ने इस धुरंदर बल्लेबाज पर भड़कते हुए युवराज को अपशब्द कहते हुए कमेंट किया कि ‘….. तुझे तो कैंसर में मर जाना चाहिए था तू उसी काबिल था जब आईपीएल की शुरूआत में पटाखे छूटते है तब तू कहां मर जाता है ज्ञान देने के लिए और जब 2011 का वर्डकप जीते थे तब कहा मर गया था तू’

युवराज की इस वीडियो अपील पर एक नहीं बल्कि कई लोगों ने कहा कि कि आप अपनी ये अपील अपने पास ही रखिए, उस दिन तो आप नजर नहीं आते जब ईद पर हजारों बेजुबान जानवरों को काट डाला जाता है। एक यूजर ने कहा कि आप जैसे बड़े लोग सोशल मीडिया पर सिर्फ अपील करते हैं और खुद बड़ी-बड़ी गाड़ियों में घूमते हैं, उन गाड़ियों से भी वायु प्रदूषण होता है।